Top 285+

Aansoo Shayari

Here is a curated collection of Aansoo shayari in Hindi. You can download HD images of all the Aansoo shayari on this page. These Aansoo Shayari images can also be used as Instagram posts and whatsapp statuses. Start reading now and enjoy.

Paginated list of Aansoo Shayari. Click on Load more once you reach the end of list to keep reading more content. You can also tap on Sort button below to choose your selection from popular or latest Aansoo shayari in Hindi and English. Enjoy reading!

baadshaahon ko sikhaaya hai qalander hona
aap aasaan samjhte hain munavvar hona

ek aansu bhi hukoomat ke liye khatra hai
tum ne dekha nahin aankhon ka samundar hona

sirf bacchon ki mohabbat ne qadam rok liye
warna aasaan tha mere liye be-ghar hona

hum ko ma'aloom hai shohrat ki bulandi hum ne
qabr ki mitti ka dekha hai barabar hona

is ko qismat ki kharaabi hi kaha jaayega
aap ka shehar mein aana mera baahar hona

sochta hoon to kahaani ki tarah lagta hai
raaste se mera takna tira chat par hona

mujh ko qismat hi pahunchne nahin deti warna
ek e'zaaz hai us dar ka gadaagar hona

sirf taarikh bataane ke liye zinda hoon
ab mera ghar mein bhi hona hai calendar hona
बादशाहों को सिखाया है क़लंदर होना
आप आसान समझते हैं मुनव्वर होना

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना

सिर्फ़ बच्चों की मोहब्बत ने क़दम रोक लिए
वर्ना आसान था मेरे लिए बे-घर होना

हम को मा'लूम है शोहरत की बुलंदी हम ने
क़ब्र की मिट्टी का देखा है बराबर होना

इस को क़िस्मत की ख़राबी ही कहा जाएगा
आप का शहर में आना मिरा बाहर होना

सोचता हूँ तो कहानी की तरह लगता है
रास्ते से मिरा तकना तिरा छत पर होना

मुझ को क़िस्मत ही पहुँचने नहीं देती वर्ना
एक ए'ज़ाज़ है उस दर का गदागर होना

सिर्फ़ तारीख़ बताने के लिए ज़िंदा हूँ
अब मिरा घर में भी होना है कैलेंडर होना
Read Full
Munawwar Rana
koi deewaana kehta hai koi paagal samajhta hai
magar dharti ki bechaini ko bas baadal samajhta hai

main tujhse door kaisa hoon tu mujhse door kaisi hai
ye tera dil samajhta hai ya mera dil samajhta hai

mohabbat ek ahsaason ki paawan si kahaani hai
kabhi kabira deewaana tha kabhi meera deewani hai

yahan sab log kahte hain meri aankhon mein aansu hain
jo tu samjhe to moti hai jo na samjhe to paani hai

samandar peer ka andar hai lekin ro nahin saka
yah aansu pyaar ka moti hai isko kho nahin saka

meri chaahat ko dulhan tu bana lena magar sun le
jo mera ho nahin paaya vo tera ho nahin saka
कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है

मैं तुझसे दूर कैसा हूँ तू मुझसे दूर कैसी है
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है

यहाँ सब लोग कहते हैं मेरी आंखों में आँसू हैं
जो तू समझे तो मोती है जो ना समझे तो पानी है

समंदर पीर का अन्दर है लेकिन रो नहीं सकता
यह आँसू प्यार का मोती है इसको खो नहीं सकता

मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना मगर सुन ले
जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो नहीं सकता
Read Full
Kumar Vishwas
vo mere ghar nahin aata main us ke ghar nahin jaata
magar in ehtiyaaton se ta'alluq mar nahin jaata

bure achhe hon jaise bhi hon sab rishte yahin ke hain
kisi ko saath duniya se koi le kar nahin jaata

gharo ki tarbiyat kya aa gai tv ke haathon mein
koi baccha ab apne baap ke oopar nahin jaata

khule the shehar mein sau dar magar ik had ke andar hi
kahaan jaata agar main laut ke phir ghar nahin jaata

mohabbat ke ye aansu hain unhen aankhon mein rahne do
shareefon ke gharo ka mas'ala baahar nahin jaata

waseem us se kaho duniya bahut mahdood hai meri
kisi dar ka jo ho jaaye vo phir dar dar nahin jaata
वो मेरे घर नहीं आता मैं उस के घर नहीं जाता
मगर इन एहतियातों से तअ'ल्लुक़ मर नहीं जाता

बुरे अच्छे हों जैसे भी हों सब रिश्ते यहीं के हैं
किसी को साथ दुनिया से कोई ले कर नहीं जाता

घरों की तर्बियत क्या आ गई टी-वी के हाथों में
कोई बच्चा अब अपने बाप के ऊपर नहीं जाता

खुले थे शहर में सौ दर मगर इक हद के अंदर ही
कहाँ जाता अगर मैं लौट के फिर घर नहीं जाता

मोहब्बत के ये आँसू हैं उन्हें आँखों में रहने दो
शरीफ़ों के घरों का मसअला बाहर नहीं जाता

'वसीम' उस से कहो दुनिया बहुत महदूद है मेरी
किसी दर का जो हो जाए वो फिर दर दर नहीं जाता
Read Full
Waseem Barelvi
apne chehre se jo zaahir hai chhupaayein kaise
teri marzi ke mutaabiq nazar aayein kaise

ghar sajaane ka tasavvur to bahut b'ad ka hai
pehle ye tay ho ki is ghar ko bachaayein kaise

laakh talwaarein badhi aati hon gardan ki taraf
sar jhukaana nahin aata to jhukaayein kaise

qahqaha aankh ka bartaav badal deta hai
hansne waale tujhe aansu nazar aayein kaise

phool se rang juda hona koi khel nahin
apni mitti ko kahi chhod ke jaayen kaise

koi apni hi nazar se to humein dekhega
ek qatre ko samundar nazar aayein kaise

jis ne daanista kiya ho nazar-andaaz waseem
us ko kuch yaad dilaayein to dilaayein kaise
अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे

घर सजाने का तसव्वुर तो बहुत ब'अद का है
पहले ये तय हो कि इस घर को बचाएँ कैसे

लाख तलवारें बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ़
सर झुकाना नहीं आता तो झुकाएँ कैसे

क़हक़हा आँख का बरताव बदल देता है
हँसने वाले तुझे आँसू नज़र आएँ कैसे

फूल से रंग जुदा होना कोई खेल नहीं
अपनी मिट्टी को कहीं छोड़ के जाएँ कैसे

कोई अपनी ही नज़र से तो हमें देखेगा
एक क़तरे को समुंदर नज़र आएँ कैसे

जिस ने दानिस्ता किया हो नज़र-अंदाज़ 'वसीम'
उस को कुछ याद दिलाएँ तो दिलाएँ कैसे
Read Full
Waseem Barelvi

LOAD MORE

How's your Mood?

Latest Blog