Sandeep Thakur

Sandeep Thakur

तू मिला ही नहीं मगर फिर भी
है बिछड़ने का मुझको डर फिर भी

जानता हूं तू आ नहीं सकता
पर सजाया है मैंने घर फिर भी

  • Sher
  • Ghazal
  • Nazm

LOAD MORE

More Writers like Sandeep Thakur

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals