ye qarz to mera hai chukaayega koi aur | ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और - Aanis Moin

ye qarz to mera hai chukaayega koi aur
dukh mujh ko hai aur neer bahaayega koi aur

kya phir yoonhi di jaayegi ujrat pe gawaahi
kya teri saza ab ke bhi paayega koi aur

anjaam ko pahunchunga main anjaam se pehle
khud meri kahaani bhi sunaayega koi aur

tab hogi khabar kitni hai raftaar-e-tagayyur
jab shaam dhale laut ke aayega koi aur

ummeed-e-sehr bhi to viraasat mein hai shaamil
shaayad ki diya ab ke jalaaega koi aur

kab baar-e-tabassum mere honton se uthega
ye bojh bhi lagta hai uthaaega koi aur

is baar hoon dushman ki rasai se bahut door
is baar magar zakham lagaayega koi aur

shaamil pas-e-parda bhi hain is khel mein kuch log
bolega koi hont hilaayega koi aur

ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और
दुख मुझ को है और नीर बहाएगा कोई और

क्या फिर यूँही दी जाएगी उजरत पे गवाही
क्या तेरी सज़ा अब के भी पाएगा कोई और

अंजाम को पहुँचूँगा मैं अंजाम से पहले
ख़ुद मेरी कहानी भी सुनाएगा कोई और

तब होगी ख़बर कितनी है रफ़्तार-ए-तग़य्युर
जब शाम ढले लौट के आएगा कोई और

उम्मीद-ए-सहर भी तो विरासत में है शामिल
शायद कि दिया अब के जलाएगा कोई और

कब बार-ए-तबस्सुम मिरे होंटों से उठेगा
ये बोझ भी लगता है उठाएगा कोई और

इस बार हूँ दुश्मन की रसाई से बहुत दूर
इस बार मगर ज़ख़्म लगाएगा कोई और

शामिल पस-ए-पर्दा भी हैं इस खेल में कुछ लोग
बोलेगा कोई होंट हिलाएगा कोई और

- Aanis Moin
2 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aanis Moin

As you were reading Shayari by Aanis Moin

Similar Writers

our suggestion based on Aanis Moin

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari