chhukar dar-e-shifa ko shifa ho gaya hoon main | छूकर दर-ए-शिफा को शिफा हो गया हूं मैं - Ali Zaryoun

chhukar dar-e-shifa ko shifa ho gaya hoon main
is arsa-e-waba mein dua ho gaya hoon main

ik be-nisha ke ghar ka pata ho gaya hoon main
har la dava ke gham ki dava ho gaya hoon main

main tha jo apni aap rukaavat tha sahiba
achha hua ki khud se juda ho gaya hoon main

tune udhar judaai ka socha hi tha idhar
baithe-bithaye tujh se rihaa ho gaya hoon main

tumko khabar nahin hai ki kya ban gaye ho tum
mujh ko to sab pata hai ki kya ho gaya hoon main

main hoon to log kyun mujhe kahte hain ki vo ho tum
gar tum nahin to kis mein fana ho gaya hoon main

छूकर दर-ए-शिफा को शिफा हो गया हूं मैं
इस अरसा-ए-वबा में दुआ हो गया हूं मैं

इक बे-निशा के घर का पता हो गया हूं मैं
हर ला दवा के ग़म की दवा हो गया हूं मैं

मैं था जो अपनी आप रुकावट था साहिबा
अच्छा हुआ कि ख़ुद से जुदा हो गया हूं मैं

तूने उधर जुदाई का सोचा ही था इधर
बैठे-बिठाए तुझ से रिहा हो गया हूं मैं

तुमको खबर नहीं है कि क्या बन गए हो तुम
मुझ को तो सब पता है कि क्या हो गया हूं मैं

मैं हूं तो लोग क्यूं मुझे कहते हैं कि वो हो तुम
गर तुम नहीं तो किस में फना हो गया हूं मैं

- Ali Zaryoun
6 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari