gale mein haath the shab us pari se raahen theen | गले में हाथ थे शब उस परी से राहें थीं - Ameer Minai

gale mein haath the shab us pari se raahen theen
sehar hui to vo aankhen na vo nigaahen theen

nikal ke chehre pe maidaan saaf khat ne kiya
kabhi ye shehar tha aisa ki band raahen theen

firaq mein tire aashiq ko ja ke kal dekha
ki vo to hech tha kuchh ashk the kuchh aahen theen

bagule ab hain ki gurbat hai gor-e-shahaan par
saroon pe chatr jilau mein kabhi sipaahein theen

hazaaron lot gaye kal uthi jo vo chilman
khadang mooe-e-miza barchiyaan nigaahen theen

kiya ye shauq ne andha mujhe na soojha kuchh
vagarna rabt ki us se hazaar raahen theen

ye zof hai ki nikalti nahin hain ab dil se
kabhi falak se bhi unchi hamaari aahen theen

jigar mein hijr ki kal chubh rahi theen kuchh faasen
magar jo ghaur se dekha tiri nigaahen theen

pahunch gaye sar-e-manzil chale jo chaal nayi
unhin mein fer tha dekhi hui jo raahen theen

falak ke daur se duniya badal gai warna
jahaan bane hain ye may-khaane khaan-qahein theen

ye zof ab hai ki hilna giran hai qadmon ko
subuk-ravi mein kabhi in ko dastagahein theen

mushaaire se haseen kyun na cheen le jaate
rubaaiyaan meri choo go shubh kulaahen theen

haseen zar ke hain taalib ki ab hain gird-e-'ameer
gareeb ham the to ye pyaar tha na chahein theen

गले में हाथ थे शब उस परी से राहें थीं
सहर हुई तो वो आँखें न वो निगाहें थीं

निकल के चेहरे पे मैदान साफ़ ख़त ने किया
कभी ये शहर था ऐसा कि बंद राहें थीं

फ़िराक़ में तिरे आशिक़ को जा के कल देखा
कि वो तो हेच था कुछ अश्क थे कुछ आहें थीं

बगूले अब हैं कि ग़ुर्बत है गोर-ए-शाहाँ पर
सरों पे चत्र जिलौ में कभी सिपाहें थीं

हज़ारों लोट गए कल उठी जो वो चिलमन
ख़दंग मूए-ए-मिज़ा बर्छियाँ निगाहें थीं

किया ये शौक़ ने अंधा मुझे न सूझा कुछ
वगर्ना रब्त की उस से हज़ार राहें थीं

ये ज़ोफ़ है कि निकलती नहीं हैं अब दिल से
कभी फ़लक से भी ऊँची हमारी आहें थीं

जिगर में हिज्र की कल चुभ रही थीं कुछ फ़ाँसें
मगर जो ग़ौर से देखा तिरी निगाहें थीं

पहुँच गए सर-ए-मंज़िल चले जो चाल नई
उन्हीं में फेर था देखी हुई जो राहें थीं

फ़लक के दौर से दुनिया बदल गई वर्ना
जहाँ बने हैं ये मय-ख़ाने ख़ान-क़ाहें थीं

ये ज़ोफ़ अब है कि हिलना गिराँ है क़दमों को
सुबुक-रवी में कभी इन को दस्तगाहें थीं

मुशाएरे से हसीं क्यूँ न छीन ले जाते
रुबाइयाँ मिरी चू गो शुबह कुलाहें थीं

हसीन ज़र के हैं तालिब कि अब हैं गिर्द-ए-'अमीर'
ग़रीब हम थे तो ये प्यार था न चाहें थीं

- Ameer Minai
0 Likes

Judai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Judai Shayari Shayari