poocha na jaayega jo watan se nikal gaya | पूछा न जाएगा जो वतन से निकल गया - Ameer Minai

poocha na jaayega jo watan se nikal gaya
be-kaar hai jo daant dehan se nikal gaya

thehre kabhi kajon mein na dam bhar bhi raast-rau
aaya kamaan mein teer to san se nikal gaya

khil'at pahan ke aane ki thi ghar mein aarzoo
ye hausla bhi gor-o-kafan se nikal gaya

pahluu mein mere dil ko na ai dard kar talash
muddat hui gareeb watan se nikal gaya

murghaan-e-baagh tum ko mubarak ho sair-e-gul
kaanta tha ek main so chaman se nikal gaya

kya rang teri zulf ki boo ne uda diya
kafoor ho ke mushk khutan se nikal gaya

pyaasa hoon is qadar ki mera dil jo gir pada
paani ubal ke chaah-e-zaqqan se nikal gaya

saara jahaan naam ke peeche tabaah hai
insaan kiya aqeeq-e-yaman se nikal gaya

kaanton ne bhi na daaman-e-gulchin pakad liya
bulbul ko zabh kar ke chaman se nikal gaya

kya shauq tha jo yaad sag-e-yaar ne kiya
har ustukhwaan tadap ke badan se nikal gaya

ai sabza rang-e-khat bhi bana ab to bosa de
begaana tha jo sabza chaman se nikal gaya

manzoor ishq ko jo hua ouj-e-husn par
kumari ka naala sarv-e-chaman se nikal gaya

madd-e-nazar rahi hamein aisi raza-e-dost
kaatee zabaan jo shikwa dehan se nikal gaya

taaoos ne dikhaaye jo apne badan ke daagh
rota hua sahaab chaman se nikal gaya

sehra mein jab hui mujhe khush-chashmon ki talash
koson main aahuvan-e-khutan se nikal gaya

khanjar khincha jo myaan se chamka miyaan-e-saf
jauhar khule jo mard watan se nikal gaya

mein sher padh ke bazm se kiya uth gaya ameer
bulbul chahak ke sehan-e-chaman se nikal gaya

पूछा न जाएगा जो वतन से निकल गया
बे-कार है जो दाँत दहन से निकल गया

ठहरें कभी कजों में न दम भर भी रास्त-रौ
आया कमाँ में तीर तो सन से निकल गया

ख़िलअ'त पहन के आने की थी घर में आरज़ू
ये हौसला भी गोर-ओ-कफ़न से निकल गया

पहलू में मेरे दिल को न ऐ दर्द कर तलाश
मुद्दत हुई ग़रीब वतन से निकल गया

मुर्ग़ान-ए-बाग़ तुम को मुबारक हो सैर-ए-गुल
काँटा था एक मैं सो चमन से निकल गया

क्या रंग तेरी ज़ुल्फ़ की बू ने उड़ा दिया
काफ़ूर हो के मुश्क ख़ुतन से निकल गया

प्यासा हूँ इस क़दर कि मिरा दिल जो गिर पड़ा
पानी उबल के चाह-ए-ज़क़न से निकल गया

सारा जहान नाम के पीछे तबाह है
इंसान किया अक़ीक़-ए-यमन से निकल गया

काँटों ने भी न दामन-ए-गुलचीं पकड़ लिया
बुलबुल को ज़ब्ह कर के चमन से निकल गया

क्या शौक़ था जो याद सग-ए-यार ने किया
हर उस्तुख़्वाँ तड़प के बदन से निकल गया

ऐ सब्ज़ा रंग-ए-ख़त भी बना अब तो बोसा दे
बेगाना था जो सब्ज़ा चमन से निकल गया

मंज़ूर इश्क़ को जो हुआ औज-ए-हुस्न पर
कुमरी का नाला सर्व-ए-चमन से निकल गया

मद्द-ए-नज़र रही हमें ऐसी रज़ा-ए-दोस्त
काटी ज़बाँ जो शिकवा दहन से निकल गया

ताऊस ने दिखाए जो अपने बदन के दाग़
रोता हुआ सहाब चमन से निकल गया

सहरा में जब हुई मुझे ख़ुश-चश्मों की तलाश
कोसों मैं आहुवान-ए-ख़ुतन से निकल गया

ख़ंजर खिंचा जो म्यान से चमका मियान-ए-सफ़
जौहर खुले जो मर्द वतन से निकल गया

में शेर पढ़ के बज़्म से किया उठ गया 'अमीर'
बुलबुल चहक के सेहन-ए-चमन से निकल गया

- Ameer Minai
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari