use bechain kar jaaunga main bhi | उसे बेचैन कर जाऊँगा मैं भी - Ameer Qazalbash

use bechain kar jaaunga main bhi
khamoshi se guzar jaaunga main bhi

mujhe choone ki khwaahish kaun karta hai
ki pal bhar mein bikhar jaaunga main bhi

bahut pachhtaayega vo bichhad kar
khuda jaane kidhar jaaunga main bhi

zara badloonga is be-manzari ko
phir us ke baad mar jaaunga main bhi

kisi deewaar ka khaamosh saaya
pukaare to thehar jaaunga main bhi

pata us ka tumhein bhi kuchh nahin hai
yahan se be-khabar jaaunga main bhi

उसे बेचैन कर जाऊँगा मैं भी
ख़मोशी से गुज़र जाऊँगा मैं भी

मुझे छूने की ख़्वाहिश कौन करता है
कि पल भर में बिखर जाऊँगा मैं भी

बहुत पछताएगा वो बिछड़ कर
ख़ुदा जाने किधर जाऊँगा मैं भी

ज़रा बदलूंगा इस बे-मंज़री को
फिर उस के बाद मर जाऊँगा मैं भी

किसी दीवार का ख़ामोश साया
पुकारे तो ठहर जाऊँगा मैं भी

पता उस का तुम्हें भी कुछ नहीं है
यहाँ से बे-ख़बर जाऊँगा मैं भी

- Ameer Qazalbash
1 Like

Bahana Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Bahana Shayari Shayari