dil mein be-naam si khushi hai abhi | दिल में बे-नाम सी ख़ुशी है अभी - Ameer Qazalbash

dil mein be-naam si khushi hai abhi
zindagi mere kaam ki hai abhi

main bhi tujh se bichhad ke sargardaan
teri aankhon mein bhi nami hai abhi

dil ki sunsaan rahguzaron par
main ne ik cheekh si sooni hai abhi

main ne maana bahut andhera hai
phir bhi thodi si raushni hai abhi

apne aansu ameer kyun ponchhoon
in charaagon mein raushni hai abhi

दिल में बे-नाम सी ख़ुशी है अभी
ज़िंदगी मेरे काम की है अभी

मैं भी तुझ से बिछड़ के सरगर्दां
तेरी आँखों में भी नमी है अभी

दिल की सुनसान रहगुज़ारों पर
मैं ने इक चीख़ सी सुनी है अभी

मैं ने माना बहुत अंधेरा है
फिर भी थोड़ी सी रौशनी है अभी

अपने आँसू 'अमीर' क्यूँ पोंछूँ
इन चराग़ों में रौशनी है अभी

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Greed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Greed Shayari Shayari