log bante hain hoshiyaar bahut | लोग बनते हैं होशियार बहुत - Ameer Qazalbash

log bante hain hoshiyaar bahut
warna ham bhi the khaaksaar bahut

ghar se be-tesha kyun nikal aaye
raaste mein hain kohsaar bahut

tujh se bichhde to ai nigaar-e-hayaat
mil gaye ham ko gham-gusaar bahut

haath shal ho gaye shanawar ke
ab ye dariya hai be-kinaar bahut

ham faqeeron ko kam nazar aaye
is nagar mein the shehryaar bahut

us ne majboor kar diya warna
ham ko khud par tha ikhtiyaar bahut

ham hi apna samajh rahe the use
ho gaye ham hi sharmasaar bahut

लोग बनते हैं होशियार बहुत
वर्ना हम भी थे ख़ाकसार बहुत

घर से बे-तेशा क्यूँ निकल आए
रास्ते में हैं कोहसार बहुत

तुझ से बिछड़े तो ऐ निगार-ए-हयात
मिल गए हम को ग़म-गुसार बहुत

हाथ शल हो गए शनावर के
अब ये दरिया है बे-कनार बहुत

हम फ़क़ीरों को कम नज़र आए
इस नगर में थे शहरयार बहुत

उस ने मजबूर कर दिया वर्ना
हम को ख़ुद पर था इख़्तियार बहुत

हम ही अपना समझ रहे थे उसे
हो गए हम ही शर्मसार बहुत

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari