chalo ki khud hi karein roo-numaaiyan apni | चलो कि ख़ुद ही करें रू-नुमाइयाँ अपनी - Ameer Qazalbash

chalo ki khud hi karein roo-numaaiyan apni
saroon pe le ke chalen kaj-kulaahiyaan apni

sabhi ko paar utarne ki justuju lekin
na baadbaan na samundar na kashtiyaan apni

vo kah gaya hai ki ik din zaroor aaunga
zara qareeb se dekhoonga dooriyaan apni

mere pados mein aise bhi log baste hain
jo mujh mein dhundh rahe hain buraiyaan apni

mujhe khabar hai vo meri talash mein hoga
main chhod aaya hoon ik baat darmiyaan apni

main boond boond ki khairaat kab talak maanguun
samet laaun samundar se seepiyaan apni

mere kahe hue lafzon ki qadr-o-qeemat thi
main apne kaan mein kehne laga azaan apni

karega sar wahi is dasht-e-be-karaan ko ameer
jala ke aaye jo saahil pe kashtiyaan apni

चलो कि ख़ुद ही करें रू-नुमाइयाँ अपनी
सरों पे ले के चलें कज-कुलाहियाँ अपनी

सभी को पार उतरने की जुस्तुजू लेकिन
न बादबाँ न समुंदर न कश्तियाँ अपनी

वो कह गया है कि इक दिन ज़रूर आऊँगा
ज़रा क़रीब से देखूँगा दूरियाँ अपनी

मिरे पड़ोस में ऐसे भी लोग बसते हैं
जो मुझ में ढूँड रहे हैं बुराइयाँ अपनी

मुझे ख़बर है वो मेरी तलाश में होगा
मैं छोड़ आया हूँ इक बात दरमियाँ अपनी

मैं बूँद बूँद की ख़ैरात कब तलक माँगूँ
समेट लाऊँ समुंदर से सीपियाँ अपनी

मिरे कहे हुए लफ़्ज़ों की क़द्र-ओ-क़ीमत थी
मैं अपने कान में कहने लगा अज़ाँ अपनी

करेगा सर वही इस दश्त-ए-बे-कराँ को 'अमीर'
जला के आए जो साहिल पे कश्तियाँ अपनी

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari