aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah | आज की रात भी गुज़री है मिरी कल की तरह - Ameer Qazalbash

aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah
haath aaye na sitaare tire aanchal ki tarah

haadsa koi to guzra hai yaqeenan yaaro
ek sannaata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah

phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi
sang haathon mein uthaaye kisi paagal ki tarah

tu ki dariya hai magar meri tarah pyaasa hai
main tere paas chala aaunga baadal ki tarah

raat jaltee hui ik aisi chitaa hai jis par
teri yaadein hain sulagte hue sandal ki tarah

main hoon ik khwaab magar jaagti aankhon ka ameer
aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah

आज की रात भी गुज़री है मिरी कल की तरह
हाथ आए न सितारे तिरे आँचल की तरह

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह

रात जलती हुई इक ऐसी चिता है जिस पर
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह

मैं हूँ इक ख़्वाब मगर जागती आँखों का 'अमीर'
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari