fikr-e-ghurbat hai na andesha-e-tanhaai hai | फ़िक्र-ए-ग़ुर्बत है न अंदेशा-ए-तन्हाई है - Ameer Qazalbash

fikr-e-ghurbat hai na andesha-e-tanhaai hai
zindagi kitne hawadis se guzar aayi hai

log jis haal mein marne ki dua karte hain
main ne us haal mein jeene ki qasam khaai hai

ham na suqraat na mansoor na eesa lekin
jo bhi qaateel hai hamaara hi tamannaai hai

zindagi aur hain kitne tire chehre ye bata
tujh se ik umr ki haalaanki shanaasaai hai

kaun na-waaqif-e-anjaam-e-tabassum hai ameer
mere haalaat pe ye kis ko hasi aayi hai

फ़िक्र-ए-ग़ुर्बत है न अंदेशा-ए-तन्हाई है
ज़िंदगी कितने हवादिस से गुज़र आई है

लोग जिस हाल में मरने की दुआ करते हैं
मैं ने उस हाल में जीने की क़सम खाई है

हम न सुक़रात न मंसूर न ईसा लेकिन
जो भी क़ातिल है हमारा ही तमन्नाई है

ज़िंदगी और हैं कितने तिरे चेहरे ये बता
तुझ से इक उम्र की हालाँकि शनासाई है

कौन ना-वाक़िफ़-ए-अंजाम-ए-तबस्सुम है 'अमीर'
मेरे हालात पे ये किस को हँसी आई है

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Haalaat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Haalaat Shayari Shayari