meri pehchaan hai kya mera pata de mujh ko | मेरी पहचान है क्या मेरा पता दे मुझ को - Ameer Qazalbash

meri pehchaan hai kya mera pata de mujh ko
koi aaina agar hai to dikha de mujh ko

tujh se milta hoon to akshar ye khayal aata hai
is bulandi se agar koi gira de mujh ko

kab se patthar ki chattaanon mein hoon gumnaam o aseer
devataaon ki tarah koi jaga de mujh ko

ek aaina sar-e-raah liye baitha hoon
jurm aisa hai ki har shakhs saza de mujh ko

in andheron mein akela hi jalunga kab tak
koi shay tu bhi to khursheed-numa de mujh ko

मेरी पहचान है क्या मेरा पता दे मुझ को
कोई आईना अगर है तो दिखा दे मुझ को

तुझ से मिलता हूँ तो अक्सर ये ख़याल आता है
इस बुलंदी से अगर कोई गिरा दे मुझ को

कब से पत्थर की चट्टानों में हूँ गुमनाम ओ असीर
देवताओं की तरह कोई जगा दे मुझ को

एक आईना सर-ए-राह लिए बैठा हूँ
जुर्म ऐसा है कि हर शख़्स सज़ा दे मुझ को

इन अंधेरों में अकेला ही जलूँगा कब तक
कोई शय तू भी तो ख़ुर्शीद-नुमा दे मुझ को

- Ameer Qazalbash
1 Like

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari