har raahguzaar mein kaahkashaan chhod jaaunga | हर रहगुज़र में काहकशाँ छोड़ जाऊँगा - Ameer Qazalbash

har raahguzaar mein kaahkashaan chhod jaaunga
zinda hoon zindagi ke nishaan chhod jaaunga

main bhi to aazmaaunga us ke khuloos ko
us ke labon pe apni fugaan chhod jaaunga

meri tarah use bhi koi justuju rahe
az-raah-e-ehtiyaat gumaan chhod jaaunga

mera bhi aur koi nahin hai tire siva
ai shaam-e-gham tujhe main kahaan chhod jaaunga

raushan rahoonga ban ke main ik shola-e-nava
sehra ke aas-paas azaan chhod jaaunga

phir aa ke bas gaye hain barabar ke ghar mein log
ab phir ameer main ye makaan chhod jaaunga

हर रहगुज़र में काहकशाँ छोड़ जाऊँगा
ज़िंदा हूँ ज़िंदगी के निशाँ छोड़ जाऊँगा

मैं भी तो आज़माऊँगा उस के ख़ुलूस को
उस के लबों पे अपनी फ़ुग़ाँ छोड़ जाऊँगा

मेरी तरह उसे भी कोई जुस्तुजू रहे
अज़-राह-ए-एहतियात गुमाँ छोड़ जाऊँगा

मेरा भी और कोई नहीं है तिरे सिवा
ऐ शाम-ए-ग़म तुझे मैं कहाँ छोड़ जाऊँगा

रौशन रहूँगा बन के मैं इक शोला-ए-नवा
सहरा के आस-पास अज़ाँ छोड़ जाऊँगा

फिर आ के बस गए हैं बराबर के घर में लोग
अब फिर 'अमीर' मैं ये मकाँ छोड़ जाऊँगा

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari