khud apne saath safar mein rahe to achha hai | ख़ुद अपने साथ सफ़र में रहे तो अच्छा है - Ameer Qazalbash

khud apne saath safar mein rahe to achha hai
vo be-khabar hai khabar mein rahe to achha hai

qadam qadam yoonhi rakhna dilon mein andesha
charaagh raahguzar mein rahe to achha hai

kabhi kabhi mere daaman ke kaam aayegi
ye dhoop deeda-e-tar mein rahe to achha hai

main dil ka haal na aane doon apni palkon tak
ye ghar ki baat hai ghar mein rahe to achha hai

kiya hai tund hawaon ka saamna jis ne
vo phool shaakh-e-shajar mein rahe to achha hai

ख़ुद अपने साथ सफ़र में रहे तो अच्छा है
वो बे-ख़बर है ख़बर में रहे तो अच्छा है

क़दम क़दम यूँही रखना दिलों में अंदेशा
चराग़ राहगुज़र में रहे तो अच्छा है

कभी कभी मिरे दामन के काम आएगी
ये धूप दीदा-ए-तर में रहे तो अच्छा है

मैं दिल का हाल न आने दूँ अपनी पलकों तक
ये घर की बात है घर में रहे तो अच्छा है

किया है तुंद हवाओं का सामना जिस ने
वो फूल शाख़-ए-शजर में रहे तो अच्छा है

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari