dard ka shehar kahi karb ka sehra hoga | दर्द का शहर कहीं कर्ब का सहरा होगा - Ameer Qazalbash

dard ka shehar kahi karb ka sehra hoga
log waqif the koi ghar se na nikla hoga

vo jo ik shakhs b-zid hai ki bhula do mujh ko
bhool jaaun to usi shakhs ko sadma hoga

aankh khulte hi bichhad jaayega har manzar-e-shab
chaand phir subh ke maqtal mein akela hoga

jin ujaalon ki taraf daud rahi hai duniya
un ujaalon mein qayamat ka andhera hoga

ek ummeed har ik dar pe liye jaati hai
ye mera shehar tha koi to shanaasa hoga

दर्द का शहर कहीं कर्ब का सहरा होगा
लोग वाक़िफ़ थे कोई घर से न निकला होगा

वो जो इक शख़्स ब-ज़िद है कि भुला दो मुझ को
भूल जाऊँ तो उसी शख़्स को सदमा होगा

आँख खुलते ही बिछड़ जाएगा हर मंज़र-ए-शब
चाँद फिर सुब्ह के मक़्तल में अकेला होगा

जिन उजालों की तरफ़ दौड़ रही है दुनिया
उन उजालों में क़यामत का अंधेरा होगा

एक उम्मीद हर इक दर पे लिए जाती है
ये मिरा शहर था कोई तो शनासा होगा

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari