jaane ye kis ki banaai hui tasveerein hain | जाने ये किस की बनाई हुई तस्वीरें हैं - Ameer Qazalbash

jaane ye kis ki banaai hui tasveerein hain
taaj sar par hain magar paanv mein zanjeeren hain

kya meri soch thi kya saamne aaya mere
kya mere khwaab the kya khwaab ki taabirein hain

kitne sar hain ki jo gardan-zadani hain ab bhi
ham ki buzdil hain magar haath mein shamshirein hain

chaar jaanib hain siyah raat ke saaye lekin
ufuk-e-dil pe nayi subh ki tanveerein hain

us ki aankhon ko khuda yun hi salaamat rakhe
us ki aankhon mein mere khwaab ki taabirein hain

जाने ये किस की बनाई हुई तस्वीरें हैं
ताज सर पर हैं मगर पाँव में ज़ंजीरें हैं

क्या मिरी सोच थी क्या सामने आया मेरे
क्या मिरे ख़्वाब थे क्या ख़्वाब की ताबीरें हैं

कितने सर हैं कि जो गर्दन-ज़दनी हैं अब भी
हम कि बुज़दिल हैं मगर हाथ में शमशीरें हैं

चार जानिब हैं सियह रात के साए लेकिन
उफ़ुक़-ए-दिल पे नई सुब्ह की तनवीरें हैं

उस की आँखों को ख़ुदा यूँ ही सलामत रक्खे
उस की आँखों में मिरे ख़्वाब की ताबीरें हैं

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Neend Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Neend Shayari Shayari