basar hona bahut dushwaar sa hai | बसर होना बहुत दुश्वार सा है - Ameer Qazalbash

basar hona bahut dushwaar sa hai
ye shab jaise kisi ki bad-dua hai

andhere mod par mujh sa hi koi
na jaane kaun hai kya chahta hai

ik aisa shakhs bhi hai bastiyon mein
hamein ham se ziyaada jaanta hai

panaahen dhoondhne nikli thi duniya
sawaa neze pe suraj aa gaya hai

abhi tak surkh hai mitti yahan ki
jahaan main hoon vo shaayad karbala hai

khushi ki lehar daudi dushmanon mein
vo shaayad doston mein ghir gaya hai

kai din ho gaye hain chalte chalte
khuda jaane kahaan tak raasta hai

बसर होना बहुत दुश्वार सा है
ये शब जैसे किसी की बद-दुआ है

अंधेरे मोड़ पर मुझ सा ही कोई
न जाने कौन है क्या चाहता है

इक ऐसा शख़्स भी है बस्तियों में
हमें हम से ज़ियादा जानता है

पनाहें ढूँडने निकली थी दुनिया
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है

अभी तक सुर्ख़ है मिट्टी यहाँ की
जहाँ मैं हूँ वो शायद कर्बला है

ख़ुशी की लहर दौड़ी दुश्मनों में
वो शायद दोस्तों में घिर गया है

कई दिन हो गए हैं चलते चलते
ख़ुदा जाने कहाँ तक रास्ता है

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Sooraj Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Sooraj Shayari Shayari