door baitha hua tanhaa sab se | दूर बैठा हुआ तन्हा सब से - Ameer Qazalbash

door baitha hua tanhaa sab se
jaane kya soch raha hoon kab se

apni taaid bhi dushwaar hui
aaina toot gaya hai jab se

ghar se nikloon to manaa kar laaun
vo tabassum jo khafa hai lab se

mere alfaaz wahi hain lekin
mera mafhoom juda hai sab se

jab se azaad kiya hai us ne
har nafs ek saza hai tab se

दूर बैठा हुआ तन्हा सब से
जाने क्या सोच रहा हूँ कब से

अपनी ताईद भी दुश्वार हुई
आइना टूट गया है जब से

घर से निकलूँ तो मना कर लाऊँ
वो तबस्सुम जो ख़फ़ा है लब से

मेरे अल्फ़ाज़ वही हैं लेकिन
मेरा मफ़्हूम जुदा है सब से

जब से आज़ाद किया है उस ने
हर नफ़स एक सज़ा है तब से

- Ameer Qazalbash
0 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari