ishq main ne likh daala qaumiyat ke khaane mein | इश्क़ मैं ने लिख डाला क़ौमीयत के ख़ाने में - Amir Ameer

ishq main ne likh daala qaumiyat ke khaane mein
aur tera dil likha shehriyat ke khaane mein

mujh ko tajarbo ne hi baap ban ke paala hai
sochta hoon kya likhoon valdiyat ke khaane mein

mera saath deti hai mere saath rahti hai
main ne likha tanhaai zaujiyat ke khaane mein

doston se ja kar jab mashwara kiya to phir
main ne kuchh nahin likha haisiyat ke khaane mein

imtihaan mohabbat ka paas kar liya main ne
ab yahi main likhoonga ahliyat ke khaane mein

jab se aap mere hain fakhr se main likhta hoon
naam aap ka apni milkayat ke khaane mein

इश्क़ मैं ने लिख डाला क़ौमीयत के ख़ाने में
और तेरा दिल लिखा शहरियत के ख़ाने में

मुझ को तजरबों ने ही बाप बन के पाला है
सोचता हूँ क्या लिखूँ वलदियत के ख़ाने में

मेरा साथ देती है मेरे साथ रहती है
मैं ने लिखा तन्हाई ज़ाैजियत के ख़ाने में

दोस्तों से जा कर जब मशवरा किया तो फिर
मैं ने कुछ नहीं लिखा हैसियत के ख़ाने में

इम्तिहाँ मोहब्बत का पास कर लिया मैं ने
अब यही मैं लिखूँगा अहलियत के ख़ाने में

जब से आप मेरे हैं फ़ख़्र से मैं लिखता हूँ
नाम आप का अपनी मिलकियत के ख़ाने में

- Amir Ameer
4 Likes

Tevar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amir Ameer

As you were reading Shayari by Amir Ameer

Similar Writers

our suggestion based on Amir Ameer

Similar Moods

As you were reading Tevar Shayari Shayari