ye laal dibiyaa mein jo padi hai vo munh dikhaai padi rahegi | ये लाल डिबिया में जो पड़ी है वो मुँह दिखाई पड़ी रहेगी - Amir Ameer

ye laal dibiyaa mein jo padi hai vo munh dikhaai padi rahegi
jo main bhi rootha to subh tak tu saji sajaai padi rahegi

na tu ne pahne jo apne haathon mein meri in ungliyon ke kangan
to soch le kitni sooni sooni tiri kalaaee padi rahegi

hamaare ghar se yun bhag jaane pe kya banega main sochta hoon
mohalle-bhar mein kai maheenon talak dahaai padi rahegi

jahaan pe cup ke kinaare par ek lipstick ka nishaan hoga
wahin pe ik do qadam ki doori pe ek taai padi rahegi

har ek khaane se pehle jhagda khilaayega kaun pehle lukma
hamaare ghar mein to aisi baaton se hi ladai padi rahegi

aur ab mithaai ki kya zaroorat main tujh se mil-jul ke ja raha hoon
magar hai afsos tere haathon ki ras malaai padi rahegi

mujhe to office ke aath ghanton se hol aata hai soch kar ye
hamaare maabain roz barson ki ye judaai padi rahegi

jo meri maano to mere office main koi marzi ki job kar lo
ki ham ne kya kaam-waam karna hai kaarvaai padi rahegi

hamaare sapne kuchh is tarah se jagaae rakhenge raat saari
ki din chadhe tak to meri baahon mein kasmasaai padi rahegi

is ek bistar pe aaj koi nayi kahaani janam na le le
agar yun hi is pe silvaton se bhari razaai padi rahegi

meri mohabbat ke teen darje hain sahal mushkil ya ghair-mumkin
to ek hissa hi jhel paayegi do tihaai padi rahegi

ये लाल डिबिया में जो पड़ी है वो मुँह दिखाई पड़ी रहेगी
जो मैं भी रूठा तो सुब्ह तक तू सजी सजाई पड़ी रहेगी

न तू ने पहने जो अपने हाथों में मेरी इन उँगलियों के कंगन
तो सोच ले कितनी सूनी सूनी तिरी कलाई पड़ी रहेगी

हमारे घर से यूँ भाग जाने पे क्या बनेगा मैं सोचता हूँ
मोहल्ले-भर में कई महीनों तलक दहाई पड़ी रहेगी

जहाँ पे कप के किनारे पर एक लिपस्टिक का निशान होगा
वहीं पे इक दो क़दम की दूरी पे एक टाई पड़ी रहेगी

हर एक खाने से पहले झगड़ा खिलाएगा कौन पहले लुक़्मा
हमारे घर में तो ऐसी बातों से ही लड़ाई पड़ी रहेगी

और अब मिठाई की क्या ज़रूरत मैं तुझ से मिल-जुल के जा रहा हूँ
मगर है अफ़्सोस तेरे हाथों की रस मलाई पड़ी रहेगी

मुझे तो ऑफ़िस के आठ घंटों से होल आता है सोच कर ये
हमारे माबैन रोज़ बरसों की ये जुदाई पड़ी रहेगी

जो मेरी मानो तो मेरे ऑफ़िस मैं कोई मर्ज़ी की जॉब कर लो
कि हम ने क्या काम-वाम करना है कारवाई पड़ी रहेगी

हमारे सपने कुछ इस तरह से जगाए रखेंगे रात सारी
कि दिन चढ़े तक तो मेरी बाहोँ में कसमसाई पड़ी रहेगी

इस एक बिस्तर पे आज कोई नई कहानी जन्म न ले ले
अगर यूँ ही इस पे सिलवटों से भरी रज़ाई पड़ी रहेगी

मिरी मोहब्बत के तीन दर्जे हैं सहल मुश्किल या ग़ैर-मुमकिन
तो एक हिस्सा ही झेल पाएगी दो तिहाई पड़ी रहेगी

- Amir Ameer
7 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amir Ameer

As you were reading Shayari by Amir Ameer

Similar Writers

our suggestion based on Amir Ameer

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari