agar ye kah do baghair mere nahin guzaara to main tumhaara | अगर ये कह दो बग़ैर मेरे नहीं गुज़ारा तो मैं तुम्हारा - Amir Ameer

agar ye kah do baghair mere nahin guzaara to main tumhaara
ya us pe mabni koi ta'assur koi ishaara to main tumhaara

ghuroor-parwar ana ka maalik kuchh is tarah ke hain naam mere
magar qasam se jo tum ne ik naam bhi pukaara to main tumhaara

tum apni sharton pe khel khelo main jaise chahe lagaaun baazi
agar main jeeta to tum ho mere agar main haara to main tumhaara

tumhaara aashiq tumhaara mukhlis tumhaara saathi tumhaara apna
raha na in mein se koi duniya mein jab tumhaara to main tumhaara

tumhaara hone ke faisley ko main apni qismat pe chhodta hoon
agar muqaddar ka koi toota kabhi sitaara to main tumhaara

ye kis pe ta'aweez kar rahe ho ye kis ko paane ke hain wazeefe
tamaam chhodo bas ek kar lo jo istikhara to main tumhaara

अगर ये कह दो बग़ैर मेरे नहीं गुज़ारा तो मैं तुम्हारा
या उस पे मब्नी कोई तअस्सुर कोई इशारा तो मैं तुम्हारा

ग़ुरूर-परवर अना का मालिक कुछ इस तरह के हैं नाम मेरे
मगर क़सम से जो तुम ने इक नाम भी पुकारा तो मैं तुम्हारा

तुम अपनी शर्तों पे खेल खेलो मैं जैसे चाहे लगाऊँ बाज़ी
अगर मैं जीता तो तुम हो मेरे अगर मैं हारा तो मैं तुम्हारा

तुम्हारा आशिक़ तुम्हारा मुख़्लिस तुम्हारा साथी तुम्हारा अपना
रहा न इन में से कोई दुनिया में जब तुम्हारा तो मैं तुम्हारा

तुम्हारा होने के फ़ैसले को मैं अपनी क़िस्मत पे छोड़ता हूँ
अगर मुक़द्दर का कोई टूटा कभी सितारा तो मैं तुम्हारा

ये किस पे ता'वीज़ कर रहे हो ये किस को पाने के हैं वज़ीफ़े
तमाम छोड़ो बस एक कर लो जो इस्तिख़ारा तो मैं तुम्हारा

- Amir Ameer
18 Likes

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amir Ameer

As you were reading Shayari by Amir Ameer

Similar Writers

our suggestion based on Amir Ameer

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari