tumhaare hijr ka sadqa utaar fenkta hai | तुम्हारे हिज्र का सदक़ा उतार फेंकता है - Ataul Hasan

tumhaare hijr ka sadqa utaar fenkta hai
diler shakhs hai khwaahish ko maar fenkta hai

bade badon ko thikaane laga diya us ne
ye ishq laash bhi sehra ke paar fenkta hai

ye kaise shakhs ke haathon mein de diya khud ko
falak ki samt mujhe baar baar fenkta hai

main jaanta hoon mohabbat ki fasl boega
zameen pe ashk jo zaar-o-qataar fenkta hai

samay ki tund-mizaaji na pooch mujh se hasan
ye be-lagaam har ik shehsawaar fenkta hai

तुम्हारे हिज्र का सदक़ा उतार फेंकता है
दिलेर शख़्स है ख़्वाहिश को मार फेंकता है

बड़े बड़ों को ठिकाने लगा दिया उस ने
ये इश्क़ लाश भी सहरा के पार फेंकता है

ये कैसे शख़्स के हाथों में दे दिया ख़ुद को
फ़लक की सम्त मुझे बार बार फेंकता है

मैं जानता हूँ मोहब्बत की फ़स्ल बोएगा
ज़मीं पे अश्क जो ज़ार-ओ-क़तार फेंकता है

समय की तुंद-मिज़ाजी न पूछ मुझ से 'हसन'
ये बे-लगाम हर इक शहसवार फेंकता है

- Ataul Hasan
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ataul Hasan

As you were reading Shayari by Ataul Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Ataul Hasan

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari