kami hai kaun si ghar mein dikhaane lag gaye hain | कमी है कौन सी घर में दिखाने लग गए हैं - Azhar Faragh

kami hai kaun si ghar mein dikhaane lag gaye hain
charaagh aur andhera badhaane lag gaye hain

ye e'timaad bhi mera diya hua hai tujhe
jo mere mashware bekar jaane lag gaye hain

main itna waada-faramosh bhi nahin hoon ki aap
mere libaas pe girhen lagaane lag gaye hain

vo pehle tanhaa khazaane ke khwaab dekhta tha
ab apne haath bhi naqshe purane lag gaye hain

fazaa badal gai andar se ham parindon ki
jo bol tak nahin sakte the gaane lag gaye hain

kahi hamaara talaatum thame to faisla ho
ham apni mauj mein kya kya bahaane lag gaye hain

nahin baeed ki jungle mein shaam pad jaaye
ham ek ped ko rasta bataane lag gaye hain

कमी है कौन सी घर में दिखाने लग गए हैं
चराग़ और अँधेरा बढ़ाने लग गए हैं

ये ए'तिमाद भी मेरा दिया हुआ है तुझे
जो मेरे मशवरे बेकार जाने लग गए हैं

मैं इतना वादा-फ़रामोश भी नहीं हूँ कि आप
मिरे लिबास पे गिर्हें लगाने लग गए हैं

वो पहले तन्हा ख़ज़ाने के ख़्वाब देखता था
अब अपने हाथ भी नक़्शे पुराने लग गए हैं

फ़ज़ा बदल गई अंदर से हम परिंदों की
जो बोल तक नहीं सकते थे गाने लग गए हैं

कहीं हमारा तलातुम थमे तो फ़ैसला हो
हम अपनी मौज में क्या क्या बहाने लग गए हैं

नहीं बईद कि जंगल में शाम पड़ जाए
हम एक पेड़ को रस्ता बताने लग गए हैं

- Azhar Faragh
3 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Faragh

As you were reading Shayari by Azhar Faragh

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Faragh

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari