shola-e-gul gulaab shola kya | शो'ला-ए-गुल गुलाब शो'ला क्या - Bashir Badr

shola-e-gul gulaab shola kya
aag aur phool ka ye rishta kya

tum meri zindagi ho ye sach hai
zindagi ka magar bharosa kya

kitni sadiyon ki qismaton ka main
koi samjhe bisaat-e-lamha kya

jo na aadaab-e-dushmani jaane
dosti ka use saleeqa kya

kaam ki poochte ho gar sahab
aashiqi ke alaava pesha kya

baat matlab ki sab samjhte hain
saahib-e-nashsha ghark-e-baada kya

dil-dukhan ko sabhi sataate hain
she'r kya geet kya fasana kya

sab hain kirdaar ik kahaani ke
warna shaitaan kya farishta kya

din haqeeqat ka ek jalwa hai
raat bhi hai usi ka parda kya

tu ne mujh se koi sawaal kiya
kaarvaan-e-hayaat-e-rafta kya

jaan kar ham basheer-badr hue
is mein taqdeer ka navishta kya

शो'ला-ए-गुल गुलाब शो'ला क्या
आग और फूल का ये रिश्ता क्या

तुम मिरी ज़िंदगी हो ये सच है
ज़िंदगी का मगर भरोसा क्या

कितनी सदियों की क़िस्मतों का मैं
कोई समझे बिसात-ए-लम्हा क्या

जो न आदाब-ए-दुश्मनी जाने
दोस्ती का उसे सलीक़ा क्या

काम की पूछते हो गर साहब
आशिक़ी के अलावा पेशा क्या

बात मतलब की सब समझते हैं
साहब-ए-नश्शा ग़र्क़-ए-बादा क्या

दिल-दुखों को सभी सताते हैं
शे'र क्या गीत क्या फ़साना क्या

सब हैं किरदार इक कहानी के
वर्ना शैतान क्या फ़रिश्ता क्या

दिन हक़ीक़त का एक जल्वा है
रात भी है उसी का पर्दा क्या

तू ने मुझ से कोई सवाल किया
कारवान-ए-हयात-ए-रफ़्ता क्या

जान कर हम 'बशीर-बद्र' हुए
इस में तक़दीर का नविश्ता क्या

- Bashir Badr
1 Like

Aasra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Aasra Shayari Shayari