dil ko kya ho gaya khuda jaane | दिल को क्या हो गया ख़ुदा जाने - Dagh Dehlvi

dil ko kya ho gaya khuda jaane
kyun hai aisa udaas kya jaane

apne gham mein bhi us ko sarfaa hai
na khila jaane vo na kha jaane

is tajaahul ka kya thikaana hai
jaan kar jo na muddaa jaane

kah diya main ne raaz-e-dil apna
us ko tum jaano ya khuda jaane

kya garz kyun idhar tavajjoh ho
haal-e-dil aap ki bala jaane

jaante jaante hi jaanega
mujh mein kya hai abhi vo kya jaane

kya ham us bad-gumaan se baat karein
jo sataish ko bhi gila jaane

tum na paoge saada-dil mujh sa
jo taghaaful ko bhi haya jaane

hai abas jurm-e-ishq par ilzaam
jab khata-waar bhi khata jaane

nahin kotaah daaman-e-ummeed
aage ab dast-e-na-rasa jaane

jo ho achha hazaar achhon ka
wa'iz us but ko tu bura jaane

ki meri qadr misl-e-shaah-e-dakan
kisi nawwaab ne na raja ne

us se utthegi kya museebat-e-ishq
ibtida ko jo intiha jaane

daagh se kah do ab na ghabraao
kaam apna bata hua jaane

दिल को क्या हो गया ख़ुदा जाने
क्यूँ है ऐसा उदास क्या जाने

अपने ग़म में भी उस को सरफ़ा है
न खिला जाने वो न खा जाने

इस तजाहुल का क्या ठिकाना है
जान कर जो न मुद्दआ' जाने

कह दिया मैं ने राज़-ए-दिल अपना
उस को तुम जानो या ख़ुदा जाने

क्या ग़रज़ क्यूँ इधर तवज्जोह हो
हाल-ए-दिल आप की बला जाने

जानते जानते ही जानेगा
मुझ में क्या है अभी वो क्या जाने

क्या हम उस बद-गुमाँ से बात करें
जो सताइश को भी गिला जाने

तुम न पाओगे सादा-दिल मुझ सा
जो तग़ाफ़ुल को भी हया जाने

है अबस जुर्म-ए-इश्क़ पर इल्ज़ाम
जब ख़ता-वार भी ख़ता जाने

नहीं कोताह दामन-ए-उम्मीद
आगे अब दस्त-ए-ना-रसा जाने

जो हो अच्छा हज़ार अच्छों का
वाइ'ज़ उस बुत को तू बुरा जाने

की मिरी क़द्र मिस्ल-ए-शाह-ए-दकन
किसी नव्वाब ने न राजा ने

उस से उट्ठेगी क्या मुसीबत-ए-इश्क़
इब्तिदा को जो इंतिहा जाने

'दाग़' से कह दो अब न घबराओ
काम अपना बता हुआ जाने

- Dagh Dehlvi
2 Likes

Mood off Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Mood off Shayari Shayari