dil mein hai ittifaq se dasht bhi ghar ke saath saath | दिल में है इत्तिफ़ाक़ से दश्त भी घर के साथ साथ - Idris Babar

dil mein hai ittifaq se dasht bhi ghar ke saath saath
is mein qayaam bhi karein aap safar ke saath saath

dard ka dil ka shaam ka bazm ka may ka jaam ka
rang badal badal gaya ek nazar ke saath saath

khwaab uda diye gaye ped gira diye gaye
dono bhula diye gaye ek khabar ke saath saath

shaakh se is kitaab tak khaak se le ke khwaab tak
jaayega dil kahaan talak us gul-e-tar ke saath saath

is ko ghazal samajh ke hi sarsari dekhiye sahi
ye mera haal-e-dil bhi hai arz-e-hunar ke saath saath

दिल में है इत्तिफ़ाक़ से दश्त भी घर के साथ साथ
इस में क़याम भी करें आप सफ़र के साथ साथ

दर्द का दिल का शाम का बज़्म का मय का जाम का
रंग बदल बदल गया एक नज़र के साथ साथ

ख़्वाब उड़ा दिए गए पेड़ गिरा दिए गए
दोनों भुला दिए गए एक ख़बर के साथ साथ

शाख़ से इस किताब तक ख़ाक से ले के ख़्वाब तक
जाएगा दिल कहाँ तलक उस गुल-ए-तर के साथ साथ

इस को ग़ज़ल समझ के ही सरसरी देखिए सही
ये मिरा हाल-ए-दिल भी है अर्ज़-ए-हुनर के साथ साथ

- Idris Babar
1 Like

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari