vo gul vo khwab-shaar bhi nahin raha | वो गुल वो ख़्वाब-शार भी नहीं रहा - Idris Babar

vo gul vo khwab-shaar bhi nahin raha
so dil ye khaaksaar bhi nahin raha

ye dil to us ke naam ka padaav hai
jahaan vo ek baar bhi nahin raha

pada hai khud se vaasta aur is ke b'ad
kisi ka e'tibaar bhi nahin raha

ye ranj apni asl shakl mein hai dost
ki main ise sanwaar bhi nahin raha

ye waqt bhi guzar nahin raha hai aur
main khud ise guzaar bhi nahin raha

वो गुल वो ख़्वाब-शार भी नहीं रहा
सो दिल ये ख़ाकसार भी नहीं रहा

ये दिल तो उस के नाम का पड़ाव है
जहाँ वो एक बार भी नहीं रहा

पड़ा है ख़ुद से वास्ता और इस के ब'अद
किसी का ए'तिबार भी नहीं रहा

ये रंज अपनी अस्ल शक्ल में है दोस्त
कि मैं इसे सँवार भी नहीं रहा

ये वक़्त भी गुज़र नहीं रहा है और
मैं ख़ुद इसे गुज़ार भी नहीं रहा

- Idris Babar
0 Likes

Manzil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Manzil Shayari Shayari