yoonhi aati nahin hawa mujh mein | यूँही आती नहीं हवा मुझ में - Idris Babar

yoonhi aati nahin hawa mujh mein
abhi raushan hai ik diya mujh mein

vo mujhe dekh kar khamosh raha
aur ik shor mach gaya mujh mein

dono aadam ke muntaqim bete
aur hua un ka saamna mujh mein

main madine ko laut aaya hoon
yaani jaari hai karbala mujh mein

raushni aane waale khwaab ki hai
din to kab ka guzar chuka mujh mein

is andhere mein jab koi bhi na tha
mujh se gum ho gaya khuda mujh mein

यूँही आती नहीं हवा मुझ में
अभी रौशन है इक दिया मुझ में

वो मुझे देख कर ख़मोश रहा
और इक शोर मच गया मुझ में

दोनों आदम के मुंतक़िम बेटे
और हुआ उन का सामना मुझ में

मैं मदीने को लौट आया हूँ
यानी जारी है कर्बला मुझ में

रौशनी आने वाले ख़्वाब की है
दिन तो कब का गुज़र चुका मुझ में

इस अँधेरे में जब कोई भी न था
मुझ से गुम हो गया ख़ुदा मुझ में

- Idris Babar
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari