karte firte hain ghazaalaan tira charcha sahab | करते फिरते हैं ग़ज़ालाँ तिरा चर्चा साहब - Idris Babar

karte firte hain ghazaalaan tira charcha sahab
ham bhi nikle hain tujhe dekhne sehra sahab

ye kuchh aasaar hain ik khwab-shuda basti ke
yahin bahta tha vo dil naam ka dariya sahab

tha yahi haal hamaara bhi magar jaagte hain
kya ajab khwaab sunaaya hai dobara sahab

sahal mat jaan ki tujh rukh pe khuda hote hue
dil hua jaata hai gard-e-rah-e-duniya sahab

ham na kahte the ki us ko nazar-andaaz na kar
aaina toot gaya dekh liya na sahab

yun hi din doob raha ho to khayal aata hai
yun hi duniya se guzar jaate hain kya kya sahab

aabshaaron ki jagah dil mein kisi ke shab-o-roz
khaak udti ho to vo khaak likhega sahab

sach kaha aap ki duniya mein hamaara kya kaam
ham to bas yoonhi chale aaye the achha sahab

tum to kya ishq-e-bala-khez ke aage baahar
meer sahab hain badi cheez na mirza sahab

करते फिरते हैं ग़ज़ालाँ तिरा चर्चा साहब
हम भी निकले हैं तुझे देखने सहरा साहब

ये कुछ आसार हैं इक ख़्वाब-शुदा बस्ती के
यहीं बहता था वो दिल नाम का दरिया साहब

था यही हाल हमारा भी मगर जागते हैं
क्या अजब ख़्वाब सुनाया है दोबारा साहब

सहल मत जान कि तुझ रुख़ पे ख़ुदा होते हुए
दिल हुआ जाता है गर्द-ए-रह-ए-दुनिया साहब

हम न कहते थे कि उस को नज़र-अंदाज़ न कर
आइना टूट गया देख लिया ना साहब

यूँ ही दिन डूब रहा हो तो ख़याल आता है
यूँ ही दुनिया से गुज़र जाते हैं क्या क्या साहब

आबशारों की जगह दिल में किसी के शब-ओ-रोज़
ख़ाक उड़ती हो तो वो ख़ाक लिखेगा साहब

सच कहा आप की दुनिया में हमारा क्या काम
हम तो बस यूँही चले आए थे अच्छा साहब

तुम तो क्या इश्क़-ए-बला-ख़ेज़ के आगे बाहर
मीर साहब हैं बड़ी चीज़ न मिर्ज़ा साहब

- Idris Babar
1 Like

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Idris Babar

As you were reading Shayari by Idris Babar

Similar Writers

our suggestion based on Idris Babar

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari