dukh ke jungle mein firte hain kab se maare maare log | दुख के जंगल में फिरते हैं कब से मारे मारे लोग - Javed Akhtar

dukh ke jungle mein firte hain kab se maare maare log
jo hota hai sah lete hain kaise hain bechaare log

jeevan jeevan hum ne jag mein khel yahi hote dekha
dheere dheere jeeti duniya dheere dheere haare log

waqt singhaasan par baitha hai apne raag sunaata hai
sangat dene ko paate hain saanson ke uktaare log

neki ik din kaam aati hai hum ko kya samjhaate ho
hum ne be-bas marte dekhe kaise pyaare pyaare log

is nagri mein kyun milti hai roti sapnon ke badle
jin ki nagri hai vo jaanen hum thehre banjaare log

दुख के जंगल में फिरते हैं कब से मारे मारे लोग
जो होता है सह लेते हैं कैसे हैं बेचारे लोग

जीवन जीवन हम ने जग में खेल यही होते देखा
धीरे धीरे जीती दुनिया धीरे धीरे हारे लोग

वक़्त सिंघासन पर बैठा है अपने राग सुनाता है
संगत देने को पाते हैं साँसों के उक्तारे लोग

नेकी इक दिन काम आती है हम को क्या समझाते हो
हम ने बे-बस मरते देखे कैसे प्यारे प्यारे लोग

इस नगरी में क्यूँ मिलती है रोटी सपनों के बदले
जिन की नगरी है वो जानें हम ठहरे बंजारे लोग

- Javed Akhtar
1 Like

Insaan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Insaan Shayari Shayari