parakh fazaa ki hawa ka jise hisaab bhi hai | परख फ़ज़ा की हवा का जिसे हिसाब भी है - Kanval Ziai

parakh fazaa ki hawa ka jise hisaab bhi hai
vo shakhs sahib-e-fan bhi hai kaamyaab bhi hai

jo roop aayi ko achha lage vo apna len
hamaari shakhsiyat kaanta bhi hai gulaab bhi hai

hamaara khoon ka rishta hai sarhadon ka nahin
hamaare khoon mein ganga bhi hai chanaab bhi hai

hamaara daur andheron ka daur hai lekin
hamaare daur ki mutthi mein aftaab bhi hai

kisi gareeb ki roti pe apna naam na likh
kisi gareeb ki roti mein inqilaab bhi hai

mera sawaal koi aam sa sawaal nahin
mera sawaal tiri baat ka jawaab bhi hai

isee zameen par hain aakhiri qadam apne
isee zameen mein boya hua shabaab bhi hai

परख फ़ज़ा की हवा का जिसे हिसाब भी है
वो शख़्स साहब-ए-फ़न भी है कामयाब भी है

जो रूप आई को अच्छा लगे वो अपना लें
हमारी शख़्सियत काँटा भी है गुलाब भी है

हमारा ख़ून का रिश्ता है सरहदों का नहीं
हमारे ख़ून में गंगा भी है चनाब भी है

हमारा दौर अंधेरों का दौर है लेकिन
हमारे दौर की मुट्ठी में आफ़्ताब भी है

किसी ग़रीब की रोटी पे अपना नाम न लिख
किसी ग़रीब की रोटी में इंक़िलाब भी है

मिरा सवाल कोई आम सा सवाल नहीं
मिरा सवाल तिरी बात का जवाब भी है

इसी ज़मीन पर हैं आख़िरी क़दम अपने
इसी ज़मीन में बोया हुआ शबाब भी है

- Kanval Ziai
9 Likes

Romantic Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kanval Ziai

As you were reading Shayari by Kanval Ziai

Similar Writers

our suggestion based on Kanval Ziai

Similar Moods

As you were reading Romantic Shayari Shayari