mustoojib-e-zulm-o-sitam-o-jaur-o-jafa hoon | मुस्तूजिब-ए-ज़ुलम-ओ-सितम-ओ-जौर-ओ-जफ़ा हूँ - Meer Taqi Meer

mustoojib-e-zulm-o-sitam-o-jaur-o-jafa hoon
har-chand ki jalta hoon pe sargarm-e-wafa hoon

aate hain mujhe khoob se dono hunar-e-ishq
rone ke tai aandhi hoon kudhne ko bala hoon

is gulshan-e-duniya mein shagufta na hua main
hoon ghuncha-e-afsurdah ki mardood-e-saba hoon

ham-chashm hai har aabla-e-paa ka mera ashk
az-bas ki tiri raah mein aankhon se chala hoon

aaya koi bhi tarah mere cheen ki hogi
aazurda hoon jeene se main marne se khafa hoon

daaman na jhatak haath se mere ki sitamgar
hoon khaak-e-sar-e-raah koi dam mein hua hoon

dil khwaah jala ab to mujhe ai shab-e-hijraan
main sokhta bhi muntazir-e-roz-e-jaza hoon

go taqat-o-aaraam-o-khor-o-khwaab gaye sab
baare ye ghaneemat hai ki jeeta to raha hoon

itna hi mujhe ilm hai kuchh main hoon bahr-cheez
ma'aloom nahin khoob mujhe bhi ki main kya hoon

behtar hai garz khaamoshi hi kehne se yaaraan
mat poocho kuchh ahvaal ki mar mar ke jiya hoon

tab garm-e-sukhan kehne laga hoon main ki ik umr
jun sham'a sar-e-shaam se ta-subh jala hoon

seena to kiya fazl-e-ilaahi se sabhi chaak
hai waqt-e-dua meer ki ab dil ko laga hoon

मुस्तूजिब-ए-ज़ुलम-ओ-सितम-ओ-जौर-ओ-जफ़ा हूँ
हर-चंद कि जलता हूँ पे सरगर्म-ए-वफ़ा हूँ

आते हैं मुझे ख़ूब से दोनों हुनर-ए-इश्क़
रोने के तईं आँधी हूँ कुढ़ने को बला हूँ

इस गुलशन-ए-दुनिया में शगुफ़्ता न हुआ मैं
हूँ ग़ुंचा-ए-अफ़्सुर्दा कि मर्दूद-ए-सबा हूँ

हम-चश्म है हर आबला-ए-पा का मिरा अश्क
अज़-बस कि तिरी राह में आँखों से चला हूँ

आया कोई भी तरह मिरे चीन की होगी
आज़ुर्दा हूँ जीने से मैं मरने से ख़फ़ा हूँ

दामन न झटक हाथ से मेरे कि सितमगर
हूँ ख़ाक-ए-सर-ए-राह कोई दम में हुआ हूँ

दिल ख़्वाह जला अब तो मुझे ऐ शब-ए-हिज्राँ
मैं सोख़्ता भी मुंतज़िर-ए-रोज़-ए-जज़ा हूँ

गो ताक़त-ओ-आराम-ओ-ख़ोर-ओ-ख़्वाब गए सब
बारे ये ग़नीमत है कि जीता तो रहा हूँ

इतना ही मुझे इल्म है कुछ मैं हूँ बहर-चीज़
मा'लूम नहीं ख़ूब मुझे भी कि मैं क्या हूँ

बेहतर है ग़रज़ ख़ामुशी ही कहने से याराँ
मत पूछो कुछ अहवाल कि मर मर के जिया हूँ

तब गर्म-ए-सुख़न कहने लगा हूँ मैं कि इक उम्र
जूँ शम्अ' सर-ए-शाम से ता-सुब्ह जला हूँ

सीना तो किया फ़ज़्ल-ए-इलाही से सभी चाक
है वक़्त-ए-दुआ 'मीर' कि अब दिल को लगा हूँ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari