zinda rahein to kya hai jo mar jaayen hum to kya | ज़िंदा रहें तो क्या है जो मर जाएँ हम तो क्या  - Muneer Niyazi

zinda rahein to kya hai jo mar jaayen hum to kya
duniya se khaamoshi se guzar jaayen hum to kya

hasti hi apni kya hai zamaane ke saamne
ik khwaab hain jahaan mein bikhar jaayen hum to kya

ab kaun muntazir hai hamaare liye wahan
shaam aa gai hai laut ke ghar jaayen hum to kya

dil ki khalish to saath rahegi tamaam umr
dariya-e-gham ke paar utar jaayen hum to kya

ab kaun muntazir hai hamaare liye wahan
shaam aa gai hai laut ke ghar jaayen hum to kya

ज़िंदा रहें तो क्या है जो मर जाएँ हम तो क्या 
दुनिया से ख़ामुशी से गुज़र जाएँ हम तो क्या 

हस्ती ही अपनी क्या है ज़माने के सामने 
इक ख़्वाब हैं जहाँ में बिखर जाएँ हम तो क्या 
 
अब कौन मुंतज़िर है हमारे लिए वहाँ 
शाम आ गई है लौट के घर जाएँ हम तो क्या 

दिल की ख़लिश तो साथ रहेगी तमाम उम्र 
दरिया-ए-ग़म के पार उतर जाएँ हम तो क्या 

अब कौन मुंतज़िर है हमारे लिए वहाँ 
शाम आ गई है लौट के घर जाएँ हम तो क्या 

- Muneer Niyazi
4 Likes

Bechaini Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muneer Niyazi

As you were reading Shayari by Muneer Niyazi

Similar Writers

our suggestion based on Muneer Niyazi

Similar Moods

As you were reading Bechaini Shayari Shayari