ped paudhe hain titliyan nahin hain | पेड़ पौधे हैं तितलियाँ नहीं हैं - Nadir Ariz

ped paudhe hain titliyan nahin hain
kaisa qasba hai ladkiyaan nahin hain

dekhkar paanv rakhna padta hai
in pahaadon pe seedhiyaan nahin hain

mere angoothe se khulega ye lock
is tijori ki chaabiyaan nahin hain

naav ka varna mas'ala nahin tha
is jazeera pe lakdiyaan nahin hain

baddua lag gai hai kiski use
us kalaaee mein choodiyaan nahin hain

baarish aayi to bheeg jaayenge
pedon ke paas chhatriyaan nahin hain

पेड़ पौधे हैं तितलियाँ नहीं हैं
कैसा क़स्बा है लड़कियाँ नहीं हैं

देखकर पाँव रखना पड़ता है
इन पहाड़ों पे सीढ़ियाँ नहीं हैं

मेरे अँगूठे से खुलेगा ये लॉक
इस तिजोरी की चाबियाँ नहीं हैं

नाव का वरना मसअला नहीं था
इस जज़ीरे पे लकड़ियाँ नहीं हैं

बद्‌दुआ लग गई है किसकी उसे
उस कलाई में चूड़ियाँ नहीं हैं

बारिश आई तो भीग जायेंगे
पेड़ों के पास छतरियाँ नहीं हैं

- Nadir Ariz
0 Likes

Shajar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadir Ariz

As you were reading Shayari by Nadir Ariz

Similar Writers

our suggestion based on Nadir Ariz

Similar Moods

As you were reading Shajar Shayari Shayari