agarche ab bhi junoon-khez dil thama nahin hai | अगरचे अब भी जुनूँ-ख़ेज़ दिल थमा नहीं है - Nivesh sahu

agarche ab bhi junoon-khez dil thama nahin hai
par ab kisi se mohabbat ka silsila nahin hai

zara si der mein sukh dukh nahin badalte hain
kisi se haath milaane ka faayda nahin hai

mujhe khabar hai meri raah meri apni hai
mujhe pata hai mera koi rehnuma nahin hai

mujhe yaqeen dilao ki mere saath ho tum
mujhe yaqeen dilao ki dil bhara nahin hai

अगरचे अब भी जुनूँ-ख़ेज़ दिल थमा नहीं है
पर अब किसी से मोहब्बत का सिलसिला नहीं है

ज़रा सी देर में सुख दुख नहीं बदलते हैं
किसी से हाथ मिलाने का फ़ायदा नहीं है

मुझे ख़बर है मेरी राह मेरी अपनी है
मुझे पता है मेरा कोई रहनुमा नहीं है

मुझे यक़ीन दिलाओ कि मेरे साथ हो तुम
मुझे यक़ीन दिलाओ कि दिल भरा नहीं है

- Nivesh sahu
1 Like

Peace Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nivesh sahu

As you were reading Shayari by Nivesh sahu

Similar Writers

our suggestion based on Nivesh sahu

Similar Moods

As you were reading Peace Shayari Shayari