fitrat ka baab-e-husn mein aisa bhi seen hai | फ़ितरत का बाब-ए-हुस्न में ऐसा भी सीन है - Nivesh sahu

fitrat ka baab-e-husn mein aisa bhi seen hai
jo jitna badmijaaz hai utna haseen hai

ik raushni ka shehar hai us dilruba ka jism
jismein hamaari teergi gosha-nasheen hai

badnaam tere gham se hoon aur hai isee se naam
mere liye ye saanp meri aasteen hai

mera wahi sawaal hai do waqt ki khuraq
tujhko koi asaar hai koi ameen hai

mere liye vo lafz-e-muqaddas hai bas yaqeen
vo hi jo tere vaaste kuchh deen-veen hai

kaddaavari ye dil pe meri jaaiyega mat
har aasmaan ke paanv tale ik zameen hai

फ़ितरत का बाब-ए-हुस्न में ऐसा भी सीन है
जो जितना बदमिजाज़ है उतना हसीन है

इक रौशनी का शहर है उस दिलरुबा का जिस्म
जिसमें हमारी तीरगी गोशा-नशीन है

बदनाम तेरे ग़म से हूँ और है इसी से नाम
मेरे लिए ये साँप मेरी आस्तीन है

मेरा वही सवाल है दो वक़्त की खुराक़
तुझको कोई असार है कोई अमीन है

मेरे लिए वो लफ़्ज़-ए-मुक़द्दस है बस यक़ीन
वो ही जो तेरे वास्ते कुछ दीन-वीन है

कद्दावरी ये दिल पे मेरी जाइएगा मत
हर आसमाँ के पाँव तले इक ज़मीन है

- Nivesh sahu
1 Like

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nivesh sahu

As you were reading Shayari by Nivesh sahu

Similar Writers

our suggestion based on Nivesh sahu

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari