taqdeer pe raazi hoon na tadbeer se khush hoon | तक़दीर पे राज़ी हूँ न तदबीर से ख़ुश हूँ - Nivesh sahu

taqdeer pe raazi hoon na tadbeer se khush hoon
main khwaab-zada kab kisi taabeer se khush hoon

kuchh roz se chalne ki raza hi nahin mujhmein
kuchh roz se main paanv ki zanjeer se khush hoon

main khud ko banaane ki jugat hi nahin karta
jaisi bhi hai jo hai teri taameer se khush hoon

milne ke liye khud se nikalna bhi to hoga
ai kyoon main teri tasveer se khush hoon

तक़दीर पे राज़ी हूँ न तदबीर से ख़ुश हूँ
मैं ख़्वाब-ज़दा कब किसी ताबीर से ख़ुश हूँ

कुछ रोज़ से चलने की रज़ा ही नहीं मुझमें
कुछ रोज़ से मैं पाँव की ज़ंजीर से ख़ुश हूँ

मैं ख़ुद को बनाने की जुगत ही नहीं करता
जैसी भी है जो है तेरी तामीर से ख़ुश हूँ

मिलने के लिए ख़ुद से निकलना भी तो होगा
ऐ जान-ए-वफ़ा मैं तेरी तस्वीर से ख़ुश हूँ

- Nivesh sahu
1 Like

Khushi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nivesh sahu

As you were reading Shayari by Nivesh sahu

Similar Writers

our suggestion based on Nivesh sahu

Similar Moods

As you were reading Khushi Shayari Shayari