jo karte the ulta-seedha karte the | जो करते थे उल्टा-सीधा करते थे - Nivesh sahu

jo karte the ulta-seedha karte the
ham patthar pe dariya fenka karte the

is jungle ke pedon se main waqif hoon
gir jaate the jis par saaya karte the

main basti mein titli pakda karta tha
baaki saare log to jhagda karte the

kuchh bacche sailaabon mein bah jaate hain
ham palkon se dariya roka karte the

jaao koi taara-waara nahin girta
ham hi chat se jugnoo fenka karte the

sab roohen zehnon par kapda rakhti theen
ham bas jismoon ka hi parda karte the

roz mushaahid rahte the ham shaam talak
phir suraj ka maatha chooma karte the

main us aag mein jism jala kar aaya tha
jis mein saare aankhen senka karte the

जो करते थे उल्टा-सीधा करते थे
हम पत्थर पे दरिया फेंका करते थे

इस जंगल के पेड़ों से मैं वाक़िफ़ हूँ
गिर जाते थे जिस पर साया करते थे

मैं बस्ती में तितली पकड़ा करता था
बाक़ी सारे लोग तो झगड़ा करते थे

कुछ बच्चे सैलाबों में बह जाते हैं
हम पलकों से दरिया रोका करते थे

जाओ कोई तारा-वारा नहीं गिरता
हम ही छत से जुगनू फेंका करते थे

सब रूहें ज़ेहनों पर कपड़ा रखती थीं
हम बस जिस्मों का ही पर्दा करते थे

रोज़ मुशाहिद रहते थे हम शाम तलक
फिर सूरज का माथा चूमा करते थे

मैं उस आग में जिस्म जला कर आया था
जिस में सारे आँखें सेंका करते थे

- Nivesh sahu
8 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nivesh sahu

As you were reading Shayari by Nivesh sahu

Similar Writers

our suggestion based on Nivesh sahu

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari