kuchh faisla to ho ki kidhar jaana chahiye | कुछ फ़ैसला तो हो कि किधर जाना चाहिए - Parveen Shakir

kuchh faisla to ho ki kidhar jaana chahiye
paani ko ab to sar se guzar jaana chahiye

nashtar-b-dast shehar se charagari ki lau
ai zakhm-e-be-kasi tujhe bhar jaana chahiye

har baar adiyon pe gira hai mera lahu
maqtal mein ab b-tarz-e-digar jaana chahiye

kya chal sakenge jin ka faqat mas'ala ye hai
jaane se pehle rakht-e-safar jaana chahiye

saara jwaar-bhaata mere dil mein hai magar
ilzaam ye bhi chaand ke sar jaana chahiye

jab bhi gaye azaab-e-dar-o-baam tha wahi
aakhir ko kitni der se ghar jaana chahiye

tohmat laga ke maa pe jo dushman se daad le
aise sukhan-farosh ko mar jaana chahiye

कुछ फ़ैसला तो हो कि किधर जाना चाहिए
पानी को अब तो सर से गुज़र जाना चाहिए

नश्तर-ब-दस्त शहर से चारागरी की लौ
ऐ ज़ख़्म-ए-बे-कसी तुझे भर जाना चाहिए

हर बार एड़ियों पे गिरा है मिरा लहू
मक़्तल में अब ब-तर्ज़-ए-दिगर जाना चाहिए

क्या चल सकेंगे जिन का फ़क़त मसअला ये है
जाने से पहले रख़्त-ए-सफ़र जाना चाहिए

सारा ज्वार-भाटा मिरे दिल में है मगर
इल्ज़ाम ये भी चाँद के सर जाना चाहिए

जब भी गए अज़ाब-ए-दर-ओ-बाम था वही
आख़िर को कितनी देर से घर जाना चाहिए

तोहमत लगा के माँ पे जो दुश्मन से दाद ले
ऐसे सुख़न-फ़रोश को मर जाना चाहिए

- Parveen Shakir
3 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari