qadmon mein bhi takaan thi ghar bhi qareeb tha | क़दमों में भी तकान थी घर भी क़रीब था - Parveen Shakir

qadmon mein bhi takaan thi ghar bhi qareeb tha
par kya karein ki ab ke safar hi ajeeb tha

nikle agar to chaand dariche mein ruk bhi jaaye
is shehar-e-be-charaagh mein kis ka naseeb tha

aandhi ne un rutoon ko bhi be-kaar kar diya
jin ka kabhi huma sa parinda naseeb tha

kuchh apne-aap se hi use kashmakash na thi
mujh mein bhi koi shakhs usi ka raqeeb tha

poocha kisi ne mol to hairaan rah gaya
apni nigaah mein koi kitna gareeb tha

maqtal se aane waali hawa ko bhi kab mila
aisa koi dareecha ki jo be-saleeb tha

क़दमों में भी तकान थी घर भी क़रीब था
पर क्या करें कि अब के सफ़र ही अजीब था

निकले अगर तो चाँद दरीचे में रुक भी जाए
इस शहर-ए-बे-चराग़ में किस का नसीब था

आँधी ने उन रुतों को भी बे-कार कर दिया
जिन का कभी हुमा सा परिंदा नसीब था

कुछ अपने-आप से ही उसे कश्मकश न थी
मुझ में भी कोई शख़्स उसी का रक़ीब था

पूछा किसी ने मोल तो हैरान रह गया
अपनी निगाह में कोई कितना ग़रीब था

मक़्तल से आने वाली हवा को भी कब मिला
ऐसा कोई दरीचा कि जो बे-सलीब था

- Parveen Shakir
1 Like

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari