khuli aankhon mein sapna jhaankta hai | खुली आँखों में सपना झाँकता है - Parveen Shakir

khuli aankhon mein sapna jhaankta hai
vo soya hai ki kuchh kuchh jaagta hai

tiri chaahat ke bheege junglon mein
mera tan mor ban kar naachta hai

mujhe har kaifiyat mein kyun na samjhe
vo mere sab hawaale jaanta hai

main us ki dastaras mein hoon magar vo
mujhe meri raza se maangata hai

kisi ke dhyaan mein dooba hua dil
bahaane se mujhe bhi taalta hai

sadak ko chhod kar chalna padega
ki mere ghar ka kaccha raasta hai

खुली आँखों में सपना झाँकता है
वो सोया है कि कुछ कुछ जागता है

तिरी चाहत के भीगे जंगलों में
मिरा तन मोर बन कर नाचता है

मुझे हर कैफ़ियत में क्यूँ न समझे
वो मेरे सब हवाले जानता है

मैं उस की दस्तरस में हूँ मगर वो
मुझे मेरी रज़ा से माँगता है

किसी के ध्यान में डूबा हुआ दिल
बहाने से मुझे भी टालता है

सड़क को छोड़ कर चलना पड़ेगा
कि मेरे घर का कच्चा रास्ता है

- Parveen Shakir
1 Like

Travel Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Travel Shayari Shayari