dua ka toota hua harf sard aah mein hai | दुआ का टूटा हुआ हर्फ़ सर्द आह में है - Parveen Shakir

dua ka toota hua harf sard aah mein hai
tiri judaai ka manzar abhi nigaah mein hai

tire badlne ke baa-wasf tujh ko chaaha hai
ye e'tiraaf bhi shaamil mere gunaah mein hai

azaab dega to phir mujh ko khwaab bhi dega
main mutmain hoon mera dil tiri panaah mein hai

bikhar chuka hai magar muskuraa ke milta hai
vo rakh rakhaav abhi mere kaj-kulaah mein hai

jise bahaar ke mehmaan khaali chhod gaye
vo ik makaan abhi tak makeen ki chaah mein hai

yahi vo din the jab ik doosre ko paaya tha
hamaari saal-girah theek ab ke maah mein hai

main bach bhi jaaun to tanhaai maar daalegi
mere qabeele ka har fard qatl-gaah mein hai

दुआ का टूटा हुआ हर्फ़ सर्द आह में है
तिरी जुदाई का मंज़र अभी निगाह में है

तिरे बदलने के बा-वस्फ़ तुझ को चाहा है
ये ए'तिराफ़ भी शामिल मिरे गुनाह में है

अज़ाब देगा तो फिर मुझ को ख़्वाब भी देगा
मैं मुतमइन हूँ मिरा दिल तिरी पनाह में है

बिखर चुका है मगर मुस्कुरा के मिलता है
वो रख रखाव अभी मेरे कज-कुलाह में है

जिसे बहार के मेहमान ख़ाली छोड़ गए
वो इक मकान अभी तक मकीं की चाह में है

यही वो दिन थे जब इक दूसरे को पाया था
हमारी साल-गिरह ठीक अब के माह में है

मैं बच भी जाऊँ तो तन्हाई मार डालेगी
मिरे क़बीले का हर फ़र्द क़त्ल-गाह में है

- Parveen Shakir
1 Like

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari