sajde tire kehne se main kar luun bhi to kya ho | सज्दे तिरे कहने से मैं कर लूँ भी तो क्या हो - Qamar Jalalvi

sajde tire kehne se main kar luun bhi to kya ho
tu ai but-e-kaafir na khuda hai na khuda ho

gunche ke chatkane pe na gulshan mein khafa ho
mumkin hai kisi toote hue dil ki sada ho

kha us ki qasam jo na tujhe dekh chuka ho
tere to farishton se bhi wa'da na wafa ho

insaan kisi fitrat pe to qaaim ho kam-az-kam
achha ho to achha ho bura ho to bura ho

is hashr mein kuchh daad na fariyaad kisi ki
jo hashr ki zalim tire kooche se utha ho

itra ke ye raftaar-e-jawaani nahin achhi
chaal aisi chala karte hain jaisi ki hawa ho

may-khaane mein jab ham se faqeeron ko na poocha
ye kahte hue chal diye saaqi ka bhala ho

allaah-re o dushman-e-izhaar-e-mohabbat
vo dard diya hai jo kisi se na dava ho

tanhaa vo meri qabr pe hain chaak-garebaan
jaise kisi sehra mein koi phool khila ho

mansoor se kahti hai yahi daar-e-mohabbat
us ki ye saza hai jo gunahgaar-e-wafa ho

jab lutf ho allah sitam waalon se pooche
tu yaas ki nazaron se mujhe dekh raha ho

farmaate hain vo sun ke shab-e-gham ki shikaayat
kis ne ye kaha tha ki qamar tum hamein chaaho

सज्दे तिरे कहने से मैं कर लूँ भी तो क्या हो
तू ऐ बुत-ए-काफ़िर न ख़ुदा है न ख़ुदा हो

ग़ुंचे के चटकने पे न गुलशन में ख़फ़ा हो
मुमकिन है किसी टूटे हुए दिल की सदा हो

खा उस की क़सम जो न तुझे देख चुका हो
तेरे तो फ़रिश्तों से भी वा'दा न वफ़ा हो

इंसाँ किसी फ़ितरत पे तो क़ाएम हो कम-अज़-कम
अच्छा हो तो अच्छा हो बुरा हो तो बुरा हो

इस हश्र में कुछ दाद न फ़रियाद किसी की
जो हश्र कि ज़ालिम तिरे कूचे से उठा हो

इतरा के ये रफ़्तार-ए-जवानी नहीं अच्छी
चाल ऐसी चला करते हैं जैसी कि हवा हो

मय-ख़ाने में जब हम से फ़क़ीरों को न पूछा
ये कहते हुए चल दिए साक़ी का भला हो

अल्लाह-रे ओ दुश्मन-ए-इज़हार-ए-मोहब्बत
वो दर्द दिया है जो किसी से न दवा हो

तन्हा वो मिरी क़ब्र पे हैं चाक-गरेबाँ
जैसे किसी सहरा में कोई फूल खिला हो

मंसूर से कहती है यही दार-ए-मोहब्बत
उस की ये सज़ा है जो गुनहगार-ए-वफ़ा हो

जब लुत्फ़ हो अल्लाह सितम वालों से पूछे
तू यास की नज़रों से मुझे देख रहा हो

फ़रमाते हैं वो सुन के शब-ए-ग़म की शिकायत
किस ने ये कहा था कि 'क़मर' तुम हमें चाहो

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari