baagh-e-aalam mein rahe shaadi-o-maatam ki tarah | बाग़-ए-आलम में रहे शादी-ओ-मातम की तरह - Qamar Jalalvi

baagh-e-aalam mein rahe shaadi-o-maatam ki tarah
phool ki tarah hanse ro diye shabnam ki tarah

shikwa karte ho khushi tum se manaa'i na gai
ham se gham bhi to manaaya na gaya gham ki tarah

roz mehfil se uthaate ho to dil dukhta hai
ab nikalwao to phir hazrat-e-aadam ki tarah

laakh ham rind sahi hazrat-e-wa'iz lekin
aaj tak ham ne na pee qibla-e-aalam ki tarah

tere andaaz-e-jaraahat ke nisaar ai qaateel
khoon zakhamon pe nazar aata hai marham ki tarah

khauf dil se na gaya subh ke hone ka qamar
vasl ki raat guzaari hai shab-e-gham ki tarah

बाग़-ए-आलम में रहे शादी-ओ-मातम की तरह
फूल की तरह हँसे रो दिए शबनम की तरह

शिकवा करते हो ख़ुशी तुम से मनाई न गई
हम से ग़म भी तो मनाया न गया ग़म की तरह

रोज़ महफ़िल से उठाते हो तो दिल दुखता है
अब निकलवाओ तो फिर हज़रत-ए-आदम की तरह

लाख हम रिंद सही हज़रत-ए-वाइ'ज़ लेकिन
आज तक हम ने न पी क़िब्ला-ए-आलम की तरह

तेरे अंदाज़-ए-जराहत के निसार ऐ क़ातिल
ख़ून ज़ख़्मों पे नज़र आता है मरहम की तरह

ख़ौफ़ दिल से न गया सुब्ह के होने का 'क़मर'
वस्ल की रात गुज़ारी है शब-ए-ग़म की तरह

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari