hon laakh zulm magar bad-dua nahin denge | हों लाख ज़ुल्म मगर बद-दुआ' नहीं देंगे - Rahat Indori

hon laakh zulm magar bad-dua nahin denge
zameen maa hai zameen ko daga nahin denge

hamein to sirf jagaana hai sone waalon ko
jo dar khula hai wahan ham sada nahin denge

rivaayaton ki safen tod kar badho warna
jo tum se aage hain vo raasta nahin denge

yahan kahaan tira sajjada aa ke khaak pe baith
ki ham faqeer tujhe boriya nahin denge

sharaab pee ke bade tajarbe hue hain hamein
shareef logon ko ham mashwara nahin denge

हों लाख ज़ुल्म मगर बद-दुआ' नहीं देंगे
ज़मीन माँ है ज़मीं को दग़ा नहीं देंगे

हमें तो सिर्फ़ जगाना है सोने वालों को
जो दर खुला है वहाँ हम सदा नहीं देंगे

रिवायतों की सफ़ें तोड़ कर बढ़ो वर्ना
जो तुम से आगे हैं वो रास्ता नहीं देंगे

यहाँ कहाँ तिरा सज्जादा आ के ख़ाक पे बैठ
कि हम फ़क़ीर तुझे बोरिया नहीं देंगे

शराब पी के बड़े तजरबे हुए हैं हमें
शरीफ़ लोगों को हम मशवरा नहीं देंगे

- Rahat Indori
2 Likes

Travel Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Travel Shayari Shayari