kaali raaton ko bhi rangeen kaha hai main ne | काली रातों को भी रंगीन कहा है मैं ने - Rahat Indori

kaali raaton ko bhi rangeen kaha hai main ne
teri har baat pe aameen kaha hai main ne

teri dastaar pe tanqeed ki himmat to nahin
apni paa-posh ko qaaleen kaha hai main ne

maslahat kahiye use ya ki siyaasat kahiye
cheel kawwon ko bhi shaheen kaha hai main ne

zaa'iqe baarha aankhon mein maza dete hain
baaz chehron ko bhi namkeen kaha hai main ne

tu ne fan ki nahin shajre ki himayat ki hai
tere ezaaz ko tauheen kaha hai main ne

काली रातों को भी रंगीन कहा है मैं ने
तेरी हर बात पे आमीन कहा है मैं ने

तेरी दस्तार पे तन्क़ीद की हिम्मत तो नहीं
अपनी पा-पोश को क़ालीन कहा है मैं ने

मस्लहत कहिए उसे या कि सियासत कहिए
चील कव्वों को भी शाहीन कहा है मैं ने

ज़ाइक़े बारहा आँखों में मज़ा देते हैं
बाज़ चेहरों को भी नमकीन कहा है मैं ने

तू ने फ़न की नहीं शजरे की हिमायत की है
तेरे एज़ाज़ को तौहीन कहा है मैं ने

- Rahat Indori
8 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari