nadi ne dhoop se kya kah diya rawaani mein | नदी ने धूप से क्या कह दिया रवानी में - Rahat Indori

nadi ne dhoop se kya kah diya rawaani mein
ujaale paanv patkane lage hain paani mein

ye koi aur hi kirdaar hai tumhaari tarah
tumhaara zikr nahin hai meri kahaani mein

ab itni saari shabon ka hisaab kaun rakhe
bade savaab kamaaye gaye jawaani mein

chamakta rehta hai soorj-mukhi mein koi aur
mahak raha hai koi aur raat-raani mein

ye mauj mauj nayi halchalein si kaisi hain
ye kis ne paanv utaare udaas paani mein

main sochta hoon koi aur kaarobaar karoon
kitaab kaun khareedega is giraani mein

नदी ने धूप से क्या कह दिया रवानी में
उजाले पाँव पटकने लगे हैं पानी में

ये कोई और ही किरदार है तुम्हारी तरह
तुम्हारा ज़िक्र नहीं है मिरी कहानी में

अब इतनी सारी शबों का हिसाब कौन रखे
बड़े सवाब कमाए गए जवानी में

चमकता रहता है सूरज-मुखी में कोई और
महक रहा है कोई और रात-रानी में

ये मौज मौज नई हलचलें सी कैसी हैं
ये किस ने पाँव उतारे उदास पानी में

मैं सोचता हूँ कोई और कारोबार करूँ
किताब कौन ख़रीदेगा इस गिरानी में

- Rahat Indori
2 Likes

Shaheed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Shaheed Shayari Shayari