andhere chaaron taraf saayein saayein karne lage | अंधेरे चारों तरफ़ साएँ साएँ करने लगे - Rahat Indori

andhere chaaron taraf saayein saayein karne lage
charaagh haath utha kar duaaein karne lage

tarqqi kar gaye bimaariyon ke saudaagar
ye sab mareez hain jo ab dawaayein karne lage

lahu-luhaan pada tha zameen par ik suraj
parinde apne paron se hawaaein karne lage

zameen par aa gaye aankhon se toot kar aansu
buri khabar hai farishte khataayein karne lage

jhuls rahe hain yahan chaanv baantne waale
vo dhoop hai ki shajar iltijaaein karne lage

ajeeb rang tha majlis ka khoob mehfil thi
safed posh uthe kaayein kaayein karne lage

अंधेरे चारों तरफ़ साएँ साएँ करने लगे
चराग़ हाथ उठा कर दुआएँ करने लगे

तरक़्क़ी कर गए बीमारियों के सौदागर
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएँ करने लगे

लहू-लुहान पड़ा था ज़मीं पर इक सूरज
परिंदे अपने परों से हवाएँ करने लगे

ज़मीं पर आ गए आँखों से टूट कर आँसू
बुरी ख़बर है फ़रिश्ते ख़ताएँ करने लगे

झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले
वो धूप है कि शजर इल्तिजाएँ करने लगे

अजीब रंग था मज्लिस का ख़ूब महफ़िल थी
सफ़ेद पोश उठे काएँ काएँ करने लगे

- Rahat Indori
3 Likes

Mehman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Mehman Shayari Shayari