Shahid Zaqi

Shahid Zaqi

यार भी राह की दीवार समझते हैं मुझे
मैं समझता था, मेरे यार समझते हैं मुझे

  • Sher
  • Ghazal

More Writers like Shahid Zaqi

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals